सोमवार, 5 जुलाई 2010

भारत प्रश्न मंच भाग-३ परिणाम

                                                        
आदरणीय स्वजनों को मेरा नमस्कार स्वीकृत हो. मै अशीष मिश्रा आप लोगों के समक्ष भारत प्रश्न मंच भाग-३ का परिणाम लेकर हाजिर हूँ. 
प्रथम प्रश्न का उत्तर है-
चित्र मे जो स्मारक दिखाया गया था. वह भारत के पहले प्रधानमंत्री स्व. श्री जवाहर लाल नेहरु का जन्म स्थल आनंद भवन है जो उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद मे है. हिंट मे दिखाया गया चित्र इलाहाबाद विश्व्वविद्यालय का था.
इस सम्बन्ध मे आदरणीय श्री प्रकाश गोविंद जी की एक टिप्पणी प्रस्तुत है-
स्वराज भवन- आनंद भवन 1930 में मोतीलाल ने इस भवन को राष्ट्र के नाम समर्पित कर दिया था परंतु यह अब स्वराज भवन 
के नाम से जाना जाता हैं। यह भवन नेहरू परिवार के स्मारक निधि का कार्यालय तथा चित्रकला से संबंधित बाल विद्यालय चल 
रहा है। किसी स्थान के इतिहास से परीचित होना चाहते हैं तो वहाँ के संग्रहालयको आप देख सकते हैं। ऐतिहासिक एवं अनोखी 
वस्तुओं से युक्त इस संग्रहालय की स्थापना सन् 1931 में की गई थी। इस संग्रहालय में ई। पूर्व शताब्दी के अवशेष प्रदर्शित 
किए गए हैं, जिनमें प्राचीन वाद्य यंत्र, पाषाणकालीन पत्थर, प्राचीन मूर्तियों की वीथिकाएँप्रमुख हैं।

इलाहाबाद
इलाहाबाद हमारे भारतवर्ष का एक प्रसिद्ध तीर्थस्थल माना जाता है। 
गंगा, यमुना, सरस्वती तीन भव्य नदियों का संगम यहाँ पर होता है इसलिए भारत के प्रमुख पवित्र स्थानों में इलाहाबाद प्रमुख है। 
पहले यह प्रयाग के नाम से यह स्थान प्रसिद्ध था । इलाहाबाद में श्रद्धालुओं के लिए अन्य आकर्षण के केन्द्र भी हैं:-- 
महाकुम्भ मेला जोकि अपने ऐतिहासिक, आध्यात्मिक महत्व एवं विशालता के लिए प्रसिद्ध है। इस स्थान पर बारह सालों में 
एक बार कुंभ का मेला आयोजित होता है। आस्था शिक्षा एवं संस्कृति से ओत-प्रोत इस नगरी में प्रति वर्ष माघ मेले का आयोजन 
होता है। सम्राट अकबर ने 1583 में यमुना तट पर किला बनवाया था। किले के अंदर 232 फुट का अशोक स्तम्भ आज भी 
सुरक्षित है।
दुसरे प्रश्न का उत्तर है-
प्रश्न मे जिस पुराण के संदर्भ मे पुछा गया था उसका नाम पद्मपुराण है. जो महर्षि वेदव्यास जी द्वारा रचित दुसरा पुराण है. इसमे श्लोको की संख्या पचपन हजार है. 
श्री प्रकाश गोविन्द जी एवं श्री पं.डी.के.शर्मा"वत्स" जी द्वारा इसमे वर्णित श्लोकों का अर्थ बताया गया है-

सकृदुच्चारयेद् यस्तु नारायणमतन्द्रित:। 
शुद्धान्त:करणो भूत्वा निर्वाणमधिगच्छति॥

अर्थ-जो आलस्य छोडकर एक बार नारायण नाम का उच्चारण कर लेता है, उसका अन्त:करण शुद्ध होता है और वह निर्वाण पद को प्राप्त होता है।  

यन्नामस्मरणादेव पापिनामपि सत्वरम्। मुक्तिर्भवति जन्तूनां ब्रह्मादीनां सुदुर्लभा॥

अर्थ-उन भगवान् के नाम का स्मरण करते ही पापी जीवों को भी तत्काल ऐसी मुक्ति सुलभ हो जाती है, जो ब्रह्मा आदि देवताओं के लिये भी परम दुर्लभ है। 

तदेव पुण्यं परमं पवित्रं गोविन्दगेहे गमनाय पत्रम्। तदेव लोके सुकृतैकसत्रं यदुच्यते केशवनाममात्रम्॥

अर्थ-भगवान् केशव के नाममात्र का जो उच्चारण किया जाता है, वही परम पवित्र पुण्यकर्म है। वहीं गोविन्दगेह (गोलोकधाम)-में जाने के लिये वाहन है और वहीं इस लोक में सुकृत का एकमात्र सत्र है।
और बोनस अंक के प्रश्न का उत्तर है-
कटहल
                                                                                                                                                   
भारत प्रश्न मंच भाग-३ के विजेता
 इस बार के विजेता का नाम है - श्री Darshan Lal Baweja .
भारत प्रश्न मंच की तरफ़ से आपको ढेर सारी शुभकामनाएँ. आपको यह प्रमाण-पत्र सहर्ष प्रदान किया जाता है-

सभी प्रश्नों का उत्तर देने वालो मे अन्य है-
My Photo
सुश्री अल्पना वर्मा                                                                                                                                 
प्रश्नों का उत्तर इन्होने भी दिया-
सुश्री Indu Arora
श्री पं.डी.के.शर्मा"वत्स"                                                                                                                                          

आयोजक की कलम से-
इस बार आप लोग चित्र को जल्दी पहचान नहीं पाये इसलिये मुझे एक हिंट देना पड़ा. मै आप लोगो की सलाह लेना चाहता हूँ कि क्या हर बार हिंट दिया जाये. इसके बारे मे आप लोग मुझे अवश्य बताइयेगा या फिर कोई अन्य सुझाव हो तो उसे भी बताइयेगा. इस बार आप लोगों के नाम मेरिट लिस्ट मे भी लग गये है जो जिनीयस खिताब की दौड़ मेम आपकी स्थिति बतायेगा. सभी विजेताओं एवं प्रतिभागियों को ढेर सारी शुभकामनाएँ. रविवार को पुनः मिलेंगे तब तक के लिये जय श्री कृष्णा

5 टिप्‍पणियां:

  1. So sad!
    प्रकाश जी हेट्रिक से यहाँ भी चूक गए!बहुत बुरा हुआ..:)
    कोशिश जारी रखीये ..
    -सभी विजेताओं को बधाई .
    -जानकारी के लिए शुक्रिया .
    -प्रकाश जी और पंडित वत्स जी की दी हुई जानकारी बहुत अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आशीष ,आप जब भी चित्र दें तो कृपया हिंट का आप्शन रखें या फिर चित्र के ऊपर जब लिखते हैं 'ये क्या है' तब उसी वाक्य में कोई हिंट दें.यह मात्र मनोरंजन है चित्र पहेली बहत कठिन न करें.जैसे वो पहाड़ी पर मंदिर वाली थी ,मंदिर भी नहीं दिख रहा था उस में ....बिना इमारत देखे कैसे बता सकते हैं?कि वह क्या है?
    फिर भी भला हो गूगल का जो जवाब मिल गया था.

    उत्तर देंहटाएं
  3. sabhi paheli premiyon ko badhayi
    saarthak aayojan
    -
    -
    aashish ji is tarah ki paheli men hint jaroor diya karen. jisne ye jagah nahi dekhi wo isko kaise pahchaanega ?
    ye imaarat mandir, masjid, theater, museum, auditorium, palace....kuchh bhi ho sakti thi. kuchh to clue hona chaahiye na.
    -
    -
    paheli aayojan kee baaki cheejen bhi spasht kariye. teeno sawaal ka jawaab pahle dene wala winner hoga ki main sawaal ka jawaab pahle dene wala winner hoga ?
    -
    -
    ab bade-bade maharathi bhi shaamil ho rahe hain ab aayega aanand.

    shubh kamnayen

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी विजेताओ को बहुत बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं