सोमवार, 12 जुलाई 2010

भारत प्रश्न मंच भाग-४ परिणाम



                                    

सभी लोगो को मेरा नमस्कार भारत प्रश्न मंच का परिणाम लेकर मै आशीष मिश्रा आप लोगों के समक्ष हाजिर हूँ. 
पहले प्रश्न का उत्तर है-
चित्र मे जिस जल प्रपात के बारे मे पुछा गया था उसका नाम दूध सागर है. जो गोवा एवं कर्नाटक के बॉर्डर पर है.


आदरणीय श्री प्रकाश गोविंद जी की टिप्पणी आप लोगो के समक्ष है-

भारत के पश्चिमी घाट के पश्चिम किनारे पर स्थित गोवा एक छोटा राज्य है। 30 मई, 1987 को इसे राज्य का दरजा दिया गया। गोवा की राजधानी है पणजी। इस शहर के एक तरफ़ मांडवी नदी बहती है और दूसरी तरफ़ समुद्र है,

सैलानियों में गोवा की लोकप्रियता की यूं तो तमाम वजहें थी हीं, लेकिन अब इको टूरिज्म ने वहां की खूबसूरती में एक नया आयाम जोडा है। गोवा ने अपने समुद्र तट, कैसिनो, चर्च आदि की भव्य खूबसूरती में इको टूरिज्म भी शामिल कर लिया है। इससे यहां आने वाले सैलानियों की संख्या में एक नया वर्ग और जुड गया है। इको टूरिज्म यानि एक तरह से कुदरती पर्यटन स्थल। जहां प्रकृति के साथ इंसानी दखल कम से कम हो, जहां की प्राकृतिक रचना वैसे ही संभाली गई हो जैसी प्रकृति ने हमें दी थी, जहां पर्यावरण का संतुलन न बिगडा हो।
Doodhsagar Railway Station by (Old Man).
गोवा के इस इको-टूरिज्म नक्शे में शामिल हैं-भगवान महावीर वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी या जिसे पहले कहा जाता था मोलेम नेशनल पार्क। गोवा की राजधानी पणजी से साठ किमी की दूरी पर यानि पणजी-बेलगाम नेशनल हाइवे पर यह वन्य जीव अभयारण्य 107 वर्ग किलोमीटर इलाके में फैला है, जहां उंचे पहाड भी हैं, और गहरी घाटियां भी। पक्षियों को देखना जिन्हें भाता हैं, उनके लिए यह स्थान सटीक है। यहां पक्षियों और जंगली जानवरों की कई किस्मों के नजारे बेहद नजदीक से देखे जा सकते हैं। यहां से महज एक घंटे की दूरी पर है दूधसागर फॉल्स जिसकी ख्याति दूर-दराज तक फैली हैं। 


मडगाँव से ४० कि.मी. दूर सह्याद्रि घाटी में है- दूध सागर जल प्रपात। केवल रेल से ही यहाँ पहुँचा जा सकता है। पर्वत शिखर से झरता फेनिल जल-प्रवाह दूध-धारा का भ्रम पैदा करता है। यहाँ पर्यटकों की भीड़ लगी रहती है और घंटों बैठे-बैठे लोग इस मनोरम नयनाभिराम दृश्य का अवलोकन कर रोमांचित होते रहते हैं। 

दूसरे प्रश्न का उत्तर है-

अभिनेता का नाम राज कुमार है.                                                                                                         
तीसरे प्रश्न का उत्तर है-

वाराणसी                                                                                                                                               
भारत प्रश्न मंच भाग-४ के विजेता है- श्री Darshan Lal Baweja

आप को ढेर सारी शुभकामनाएँ साथ ही आपको यह प्रमाण पत्र सहर्ष प्रदान किया जाता है.             
सभी प्रश्नों का उत्तर देने वाले अन्य हैं-
१. श्री प्रकाश गोविन्द

My Photo
२. सुश्री अल्पना वर्मा

My Photo
३. श्री कृष्ण चन्द्र दूबे

My Photo
४. सुश्री Indu Arora                                                                                                                               
सभी विजेताओं एवं प्रतिभागियों को ढेर सारी शुभकामनाए                                                                                             

4 टिप्‍पणियां:

  1. दर्शन लाल बावेजा जी को हार्दिक बधाई
    एवं
    अन्य सभी पहेली में शामिल दिग्गजों को शुभकामनायें
    -
    -
    अफसोस है कि इस बार समय से पहेली में शामिल ना हो सका
    ज्यादा दिमाग खपाने वाली पहेली नहीं थी
    आशा है आगे भी ऐसी ही पहेली आएँगी !
    -
    -
    ये बोनस अंक का सवाल मेरे लिए टेढ़ी खीर है
    अल्पना जी तो फूल-पत्ती एवं पशु-पक्षी विशेषज्ञ हैं
    दर्शन जी भी कम नहीं लगते लेकिन मैं बेचारा इतना ज्ञान कहाँ से लाऊं ????
    अतः प्रार्थी का निवेदन है कि बोनस अंक के लिए किसी और विषय क्षेत्र का चुनाव किया जाए

    उत्तर देंहटाएं
  2. -Darshan ji,Prakash ji,krishn dubey ji,aur Indu ji ko bahut bahut badhayee.
    Next paheli ke liye shubhkamanyen.

    -Yahan to der se pahunchne par apni position hi badal gayee!!!!!!!:D

    उत्तर देंहटाएं
  3. धन्यवाद प्रकाश गोविन्द जी व मिश्रा जी
    पहेली पर प्रतिभागीयों की संख्या बढ़ने क प्रयत्न करे

    उत्तर देंहटाएं