सोमवार, 13 दिसंबर 2010

भारत प्रश्न मंच भाग-२३ परिणाम शहंशाहों को भी ना मिली वतन की जमीन आख़िरी सांस के वक्त

भारत प्रश्न मंच भाग-२३ परिणाम 
शहंशाहों को भी ना मिली  वतन की जमीन आख़िरी सांस के वक्त 

प्रिय मित्रों मैं आशीष मिश्रा हाजिर हूँ आप सभी लोगों के समक्ष भारत प्रश्न का परिणाम लेकर .
पहले प्रश्न का सही उत्तर है - थिबा पैलेस , रत्नागिरी, महाराष्ट्र 

आइये जानते हैं थिबा पैलेस को
मुल्क दो , दो बादशाह , लेकिन किस्मत दोनों की एक जैसी . अंग्रजों के हाथों हार मिली और वतन से दूर घुट घुट कर आख़िरी सांस .

मुग़ल सल्तनत के अंतिम बादशाह बहादुर शाह जफर नें रंगून में अपने अंतिम दिनों में अपनी बदनसीबी का जिक्र करते हुए एक शेर लिखा था - " कितना बदनसीब है जफर ,दफन के लिए दो गज जमीन भी ना मिली कू-ऐ-यार में  "अंग्रेजों ने १८५७ के स्वतंत्रता संग्राम को कुचलने के बाद जफर को रंगून (अब यंगून ) में बाकी उम्र घुट-घुटकर मरने के लिए नजरबंद कर दिया था. इस बात को सभी लोग जानते हैं पर इस बात को को बहोत कम लोग जानते हैं कि बर्मा के अंतिम शासक थिबा मिन को अंग्रेजों ने ठीक इसी तर्ज पर घुट-घुटकर मरने के लिए महाराष्ट्र के रत्नागिरी के एक महल में बंद करके रखा था, और ये महल है थिबा पैलेस.

पैलेस में ऊपर के एक बड़े कक्ष में एक खिड़की है। कहते हैं, इसी खिड़की से थीबा की नजरें समुद्र में तैरती नौकाओं को निहारा करती थीं। चारों तरफ सुनसान, समुद्र की घहराती लहरें और उदास पैलेस में बंद एक राजा। कुछ बरस बाद थीबा की यहीं मौत हुई। यहां आने वाली रोड का नाम भी थीबा पैलेस रोड है। लंबा वक्त गुजर गया लेकिन पैलेस का इलाका आज भी सुनसान है।शताब्दी पहले डरावने सुनसान में थीबा ने कैसे यहां अपने आखिरी दिन बिताए होंगे।वैसे ही जैसे जफर ने यंगून के निकट एक सुनसान इलाके में बिताए थे, अपने देश में मरने की दो गज जमीन पाने की आखिरी आस लिए हुए.

 बर्मा के अंतिम शासक थिबा मीन को अंग्रेजों ने  इस महल में तकरीबन सात साल तक इसी महल में उनकी महारानी के साथ कैद करके रखा था . १८८५ में थिबा को  कुछ दिनों तक नजरबन्द कर इस पैलेस में भेज दिया गया था  और यहीं पर १६ दिसंबर १९१६ को थिबा ने अंतिम साँसे ली थी . इस महल में थिबा के साथ उसके बच्चे भी थे, थिबा के मरने के बाद उसका परिवार बिखरता गया .





पहेली के बोनस अंक का सही उत्तर है -
किशोर कुमार 

आइये आपको विजेताओं से मिलवाते है
प्रथम विजेता है
My Photo
श्री गजेंद्र सिंह जी 
आपको ये प्रमाण पत्र सहर्ष प्रदान किया जाता है 
 
इसी के साथ गजेंद्र सिंह जी इस भारत प्रश्न मंच की पहेली में 
हेट्रिक बनाने वाले दूसरे प्रतिभागी बन गए हैं 
heartly Congratulations
दूसरा स्थान 
My Photo
श्री दर्शन बवेजा जी 
अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
तीसरा स्थान 
My Photo
क्रिएटिव मंच जी  
अंक-५०
Congratulations to Alvera for 1000 posts
चौथा स्थान 
My Photo
सुश्री अल्पना वर्मा जी 
अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
पांचवां स्थान 
My Photo
श्री विजय कर्ण जी 
अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
छठा स्थान 
My Photo
श्री ओशो रजनीश जी 
अंक-५०
Congratulations to Alvera for 1000 posts 
सातवाँ स्थान 
My Photo
श्रीमान बंटी चोर जी 
अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
आठवां स्थान 
My Photo
सुश्री अदिती चौहान जी
अंक-५०
Congratulations to Alvera for 1000 posts
नौवां स्थान
My Photo
श्री उपेन्द्र 'उपेन'जी  
 अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
दसवां स्थान 
My Photo
सुश्री इंदु अरोड़ा जी 
अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
ग्यारहवां स्थान 
My Photo
श्री बिग बॉस जी
अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
बारहवां स्थान 
My Photo
श्री सुरेन्द्र सिंह भाम्बू जी 
अंक-५० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
तेरहवां स्थान 
My Photo
श्री डॉ. अजमल खान जी 
अंक-30 
Congratulations to Alvera for 1000 posts
चौदहवां स्थान 
My Photo
श्री शेखर सुमन जी 
अंक-२० 
Congratulations to Alvera for 1000 posts





विशेष सूचना
भारत प्रश्न मंच के २५ भाग पूरे हो जाने पर ,इस पहेली प्रतियोगिता का पहला राउंड समाप्त हो जाएगा. और जल्द ही इसके दूसरे राउंड को शुरू किया जाएगा . पहले राउंड के समाप्त होने के पश्चात हम तीन जीनीयस विजेताओं की सूची और मेरिट लिस्ट जारी करेंगे , जीनियस विजेताओं का चयन अब तक हुई पहेलियों(१ से २५) में प्राप्त नंबर के आधार पर किया जाएगा. 
एक बात याद दिलाना चाहता हूँ कि पहेली के नियमानुसार प्रथम स्थान प्राप्त विजेता के खाते में २० अंक हर बार जोड़े जा रहे है   
दूसरे राउंड में भारत प्रश्न मंच के कुछ नियमों में परिवर्तन किया जाएगा , यदि आपके के पास कोई सुझाव हो तो आप हमें अवश्य बताएं.
धन्यवाद                                                                                                                                                  

12 टिप्‍पणियां:

  1. चलो कम से कम अंदर १० में तो हम भी आ गए.....................सभी विजेताओं को बधाई.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी विजेताओं को बधाई.....
    मिश्र जी ये बीन साहब को दाईं तरफ लगा लो ब्लॉग ओपरेट करने में दिक्कत होती है
    रेलवे ट्रैक का माडल
    क्यूँ नहीं जलता है बल्ब का फिलामेंट

    उत्तर देंहटाएं
  3. समस्त विजेताओं को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरा नाम सबसे लास्ट में....चलो कम से कम है तो...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सभी विजेताओं को बधाई.....


    ________________
    'पाखी की दुनिया; में पाखी-पाखी...बटरफ्लाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी विजयी प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई !
    -
    -
    यह पहेली पसंद आई
    आपका हिंट भी सही था
    -
    -
    पहेली जारी रखिये
    अवरोध हर अच्छी चीज में आते हैं
    -
    'आलोचना भी उसी की होती है जो कुछ करता है. उसकी आलोचना आप क्या करेंगे जिसने कुछ काम किया ही नहीं'
    नुक्ताचीनी करना, मीनमेख निकालना, बुराई करना, मुफ्त की सलाह देना, शिकायत करना .... यह सबसे आसान काम है, जिसमें हम भारतीय सदा से श्रेष्ठ रहे हैं.
    -
    -
    आप व्यर्थ की बहस में न पढ़िए.
    मुझे आपका इस तरह अपनी ऊर्जा व्यर्थ करना जम नहीं रहा.
    शान्ति से अपने मंजिल की तरफ बढिए बस.


    स्नेह के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  7. @ आदरणीय प्रकाश सर

    बहोत बहोत धन्यवाद ....

    आपकी को बातों को आगे से ध्यान रखूंगा

    उत्तर देंहटाएं
  8. सभी विजयी प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बधाई सभी को .
    अच्छा टेम्पलेट.
    मिस्टर बीन साहब को झांकते देख कर तो सुबह सुबह मुस्कुरा उठे.

    उत्तर देंहटाएं